25 अक्तूबर, 2013

बुंदेलों को आकर्षित करेंगे मोदी

उत्तर प्रदेश के झांसी शहर में स्थित महारानी लक्ष्मीबाई के किले की तर्ज पर तैयार मंच से शुक्रवार को भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार नरेन्द्र मोदी लोगों को सम्बोधित करेंगे।

कानपुर की रैली में जिस तरह से मोदी ने क्षेत्रीय समस्याओं को तवज्जो दी थी, उसके बाद अब झांसी में भी बुंदेलखंड पैकेज के बहाने लोगों को आकर्षित करते नजर आएंगे। इस बीच सूत्रों की माने तो मप्र से भी भीड़ जुटाने की जोरदार तैयारी चल रही है।

मोदी की उत्तर प्रदेश में यह दूसरी रैली है। इससे पहले कानपुर की रैली में बड़ी संख्या में जुटी भीड़ से उत्साहित मोदी ने कांग्रेस की दुखती रग पर हाथ फेरा था। कानपुर में बंद पड़े उद्योग धंधों और आजादी में उनके योगदान का जिक्र कर अपने को उनके करीब खड़ा करने का प्रयास किया था। पार्टी सूत्रों का दावा है कि मोदी झांसी में भी स्थानीय समस्याओं को ही उठाएंगे।

भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता विजय बहादुर पाठक ने कहा कि पार्टी के लिए विकास हमेशा से ही मुद्दा रहा है और जाहिर है कि पार्टी अपनी रैलियों में विकास को मुद्दा बनाएगी। इस बीच झांसी में शुक्रवार को आयोजित विजय शंखनाद रैली की तैयारियों में पूरी भाजपा ने धरती आसमान एक कर रखा है। इस क्षेत्र के चारों लोकसभा क्षेत्रों बांदा, झांसी, ललितपुर, हमीरपुर और जालौन से भीड़ जुटाने के साथ आस पास के क्षेत्रों से लोगों के आने की उम्मीद लगाई जा रही है।

मोदी की रैली के लिये झांसी का जीआइसी ग्राउंड जोर शोर से सजाया जा रहा है। देर रात तक सजावट का कार्य पूरा कर लिया जाएगा। मोदी के स्वागत में भाजपाइयों ने शहर के हर चौराहे पर होर्डिंग बैनर पाट दिए हैं। भाजपा नेताओं में अब भी भीड़ जुटने को लेकर चिंता दिख रही है। बताया जा रहा है कि वैसे तो मोदी की रैली के लिहाज से पार्टी के नेता जीआइसी ग्राउंड को छोटा मानकर चल रहे हैं। लेकिन बुंदेलखण्ड में कानपुर जैसी भीड़ एकत्र हो, इस पर भी आश्वस्त नहीं हो सकते। यही वजह है कि पार्टी ने इस मैदान को चुना है।

झांसी शहर मध्य प्रदेश से सटा हुआ है। मध्य प्रदेश का दतिया जिला मुख्यालय रैली स्थल से करीब 25 किलोमीटर की दूरी पर है। वहां से बड़ी संख्या में लोगों के आने की उम्मीद है। मप्र के शिवपुरी से भी लोग आएंगे। पार्टी के राष्ट्रीय महामंत्री व प्रभारी अमित शाह खुद रैली स्थल पर जमे हुए हैं। वह हर पहलू पर ध्यान दे रहे हैं।

ऐसे में यदि जीआइसी ग्राउंड छोटा पड़ गया तो पास के दो ग्राउंड पर पार्टी नेताओं व जिला प्रशासन की नजर है। उसी में चिन्हित कर किसी ग्राउंड पर लोगों को रोका जा सकता है। देर रात तक उस ग्राउंड में एलईडी लगाने की योजना है जिससे कि रैली नहीं पहुंच पाने वाले लोग भी मोदी का भाषण सुन सकें।

भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष डॉ लक्ष्मीकांत बाजपेयी का दावा है कि केवल चार लोकसभा क्षेत्रों के लोग ही आ रहे हैं। उनका दावा है कि इस क्षेत्रों के प्रत्येक बूथ से कार्यकर्ता आ रहे हैं। उनका मानना है कि यह रैली बुंदेलखण्ड की ऐतिहासिक रैली साबित होगी। 

WWW.PARDAPHASH.COM

कोई टिप्पणी नहीं: