24 जुलाई, 2011

अब क्यों नहीं आती हमारे घर गौरैया

कभी हमारे घरों में गौरैया का घोसला हुआ करता था दोपहर के समय अपने बचों के साथ चहचहाया करती थी जब हम लोग गर्मी की दोपहर में आराम करने के लिए घरों में सोया करते थे. मई छोटा था तब इनके बच्चों  को दौड़ाया करता था न जाने कितनी बार माँ से इस वजह से मर पड़ी लेकिन मेरे अन्दर सुधार नहीं हुआ लेकिन आज  मई अपने वो दिन यद् करता हूँ की किस तरह से मेरा बचपन बीता करता था लेकिन आज वो दौर है की दिन भर केवल भागा दौड़ी  लगी रहती है. अपने वो दिन यद् करता हूँ तो सिहर जाता हूँ की न जाने कितनी चिड़ियों के बच्चों को सताया करता था . लेकिन आज वो समय है कि गौरैया देखने के लिए तरस जा रहे हैं . इस आधुनिक युग में रहन सहन और वातावरण में आये बदलाओं के कारण आज गौरैयों पर कई खतरे मंडरा रहे हैं . बढती जन संख्या का शिकार हो रही है बेचारी गौरैया. 

कोई टिप्पणी नहीं: