25 जनवरी, 2012

आखिर शिव मंदिर में क्यों होती है नंदी की मूर्ति

आप जब भी शिव मंदिर में भगवान भोलेनाथ के मंदिर में दर्शनों के लिए जाते हैं तो आपने देखा होगा कि देवाधि देव महादेव के साथ उनका बैल नंदी जरुर होता है| क्या आप जानते हैं कि भगवान भोलेनाथ के मंदिर में उनके सामने नंदी क्यों बैठाया जाता है और उसका मुंह शंकर की तरफ ही क्यों किया जाता है? अगर नहीं तो आज हम आपको बताते हैं|

आपको बता दें कि भगवान शंकर के मंदिर में उनके सामने उनकी सवारी नंदी को इसलिए स्थापित करते हैं क्योंकि शिवजी का वाहन नंदी पुरुषार्थ यानी मेहनत का प्रतीक है। अब सवाल यह बनता है कि नंदी शिवलिंग की ओर ही मुख करके क्यों बैठा होता है? जानते हैं दरअसल नंदी का संदेश है कि जिस तरह वह भगवान शिव का वाहन है। ठीक उसी तरह हमारा शरीर आत्मा का वाहन है।

जिस प्रकार नंदी की नज़र भगवान शंकर की तरफ होती हैं उसी तरह हमारी नजर भी आत्मा की ओर होनी चाहिए| इस प्रकार हर मनुष्य को अपने दोषों को देखना चाहिए। हमेशा दूसरों के लिए अच्छी भावना रखना चाहिए। आपको बता दें कि भगवान शंकर की सवारी नंदी का इशारा यही होता है कि शरीर का ध्यान आत्मा की ओर होने पर ही हर व्यक्ति चरित्र, आचरण और व्यवहार से पवित्र हो सकता है। 

कोई टिप्पणी नहीं:

loading...