26 सितंबर, 2013

यहाँ दहेज़ में मिलता है कुत्ता और गधा!

अभी तक शादी तो बहुत देखी और सूनी होगी लेकिन आज हम आपको एक ऐसी अनोखी शादी के बारे में बताने जा रहे हैं जिसे सुनकर आप भी हैरान हो जायेंगे| अभी तक आपने यही सुना होगा की लड़की पक्ष वाले लड़कों वालों को दहेज़ देते हैं लेकिन इस अनोखी शादी में लड़की वाले नहीं बल्कि लड़के वाले लड़की को दहेज़ देते हैं| और शादी के बाद जब लड़की अपनी ससुराल आती है तो वह उपहार के तौर पर गधा और कुत्ता भी लाती है| इतना सुनकर आप भी सोच रहे होंगे कि आखिर यह अनोखी शादी होती कहाँ है तो आपको बता दें कि पश्चिमी राजस्थान का खुबसूरत जिला है बाड़मेर| इस जिले में अनेक जातियां बसती हैं इन्हीं जातियों में एक जाति है जोगी| आमतौर पर यह जाति भीख मांगकर अपना गुजारा करती है| आजादी के 65 साल बीत गए जहाँ पूरे देश तरक्की कर रहा है वहीं इस जाति के लोग आज भी सदियों पुरानी परम्पराओं में जकड़े हुए हैं| 

इस जाति में शादी की सदियों पुरानी परम्परा जो आज भी चली आ रही है वह यह कि यहाँ लड़की वाले नहीं बल्कि लड़के वाले दहेज़ देते हैं इसके अलावा युवक जिस लड़की से शादी करना चाहता है उसे दो साल तक कमाकर खिलाता है यदि वह ऐसा करने में सफल होता है तभी उसकी शादी होती है| 

इस जाति में दहेज़ के रूप में कुत्ता और गधा देने का चलन है। कुत्ता जहां सामान की रखवाली करने के काम आता है और गधा इसलिए ताकि उसका सामान आसानी से एक स्थान से दूसरे स्थान पर पहुंचाया जा सके। इतना ही नहीं इस जाति की एक और अनोखी परंपरा वह यह कि यहाँ जब सस्त्रियाँ गर्भवती होती हैं तो उसके पति को उसे सियार का मांस खिलाना होता है| फिलहाल यदि इस जाति के लोगों की माने तो उनका कहना है कि यह पुरानी परम्पराएँ धीरे- धीरे समाप्त हो रही है और लोग अन्य व्यवसाय में रूचि ले रहे हैं|

www.pardaphash.com

कोई टिप्पणी नहीं:

loading...
loading...