20 अगस्त, 2011

रविवार को मनाई जाएगी श्रीकृष्ण जन्माष्टमी


श्रीकृष्ण जन्माष्टमी को लेकर इस बार भी हमेशा की तरह संशय बरकरार है| जहाँ सरकारी गजट व कैलेंडर के हिसाब से जन्माष्टमी सोमवार को मनाई जाएगी वहीँ शहर के तमाम पंडित ने रविवार को जन्माष्टमी मनाने का निर्णय लिया है।

इस बारे में अखिल भारतीय ब्राह्मण महासभा की बैठक में विचार विमर्श करने के बाद पंडितों ने रविवार को श्रीकृष्ण जन्माष्टमी का पर्व मनाने की घोषणा की है।

बहरहाल सरकारी विभागों में सोमवार को श्रीकृष्ण जन्माष्टमी का अवकाश घोषित किया है। इसके अलावा कैलेंडर में भी 22 अगस्त को ही श्रीकृष्ण जन्माष्टमी का पर्व अंकित हैं लेकिन शहर के अधिकांश पंडितों की माने तो श्रीकृष्ण जन्माष्टमी का पर्व रविवार को ही मनाया जाएगा।

मालूम हो कि शुक्रवार देर रात अखिल भारतीय ब्राह्मण सभा की ओर से एक बैठक बुलाई गई। इसमें श्रीकृष्ण जन्माष्टमी पर्व को लेकर चर्चा की गई।जहाँ पंडित जगदीश प्रसाद पैन्यूली ने कहा कि भगवान श्रीकृष्ण का जन्म अ‌र्द्ध रात्रि अष्टमी तिथि चंद्र व्यापनी रोहिणी नक्षत्र में हुआ था। 21 अगस्त को कातिक नक्षत्र एवं अष्टमी तिथि है। जबकि रोहिणी नक्षत्र 22 अगस्त को है। पंडित रजनीश शास्त्री ने कहा कि उदय व्यापनी अष्टमी को ही श्रीकृष्ण जन्माष्टमी के रूप में लिया जाना है। विचार विमर्श के बाद बैठक में निर्णय लिया गया कि 21 अगस्त को ही श्रीकृष्ण जन्माष्टमी का पर्व मनाया जाए।

कोई टिप्पणी नहीं:

loading...