07 मई, 2012

नारद जयन्ती आज, भगवान का मन हैं नारद

हिन्दू शास्त्रों के अनुसार ज्येष्ठ मास के प्रथम दिन नारद जयन्ती मनाई जाती है| इस बार नारद जयन्ती 7 मई दिन सोमवार को है| देवर्षि नारद का हिन्दू शास्त्रों में मुख्य योगदान रहा है इनके द्वारा सृष्टि में अनेक लीलाओं को देखा गया जिनके सूत्रधार नारद मुनि को माना जाता है| 

नारद मुनि, हिन्दू शास्त्रों के अनुसार, ब्रह्मा के सात मानस पुत्रो मे से एक है। उन्होने कठिन तपस्या से ब्रह्मर्षि पद प्राप्त किया है। वे भगवान विष्णु के अनन्य भक्तों मे से एक माने जाते है।

देवर्षि नारद धर्म के प्रचार तथा लोक-कल्याण हेतु सदैव प्रयत्नशील रहते हैं। शास्त्रों में इन्हें भगवान का मन कहा गया है। इसी कारण सभी युगों में, सब लोकों में, समस्त विद्याओं में, समाज के सभी वर्गो में नारदजी का सदा से प्रवेश रहा है।

वायुपुराण में देवर्षि के पद और लक्षण का वर्णन है- देवलोक में प्रतिष्ठा प्राप्त करनेवाले ऋषिगण देवर्षिनाम से जाने जाते हैं। भूत, वर्तमान एवं भविष्य-तीनों कालों के ज्ञाता, सत्यभाषी,स्वयं का साक्षात्कार करके स्वयं में सम्बद्ध, कठोर तपस्या से लोकविख्यात,गर्भावस्था में ही अज्ञान रूपी अंधकार के नष्ट हो जाने से जिनमें ज्ञान का प्रकाश हो चुका है, ऐसे मंत्रवेत्तातथा अपने ऐश्वर्य के बल से सब लोकों में सर्वत्र पहुँचने में सक्षम, मंत्रणा हेतु मनीषियोंसे घिरे हुए देवता, द्विज और नृपदेवर्षि कहे जाते हैं।

इस पुराण में आगे यह भी लिखा है कि धर्म, पुलस्त्य,क्रतु, पुलह,प्रत्यूष,प्रभास और कश्यप - इनके पुत्रों को देवर्षिका पद प्राप्त हुआ। धर्म के पुत्र नर एवं नारायण, क्रतु के पुत्र बालखिल्यगण,पुलहके पुत्र कर्दम, पुलस्त्यके पुत्र कुबेर, प्रत्यूषके पुत्र अचल, कश्यप के पुत्र नारद और पर्वत देवर्षि माने गए, किंतु जनसाधारण देवर्षिके रूप में केवल नारदजी को ही जानता है। उनकी जैसी प्रसिद्धि किसी और को नहीं मिली। वायुपुराण में बताए गए देवर्षि के सारे लक्षण नारदजी में पूर्णत:घटित होते हैं।

हाथ में वीणा थामे, खड़ी शिखा, मुख से निरंतर 'नारायण' शब्द का जाप करने वाले देवर्षि नारद देवताओं के पूज्य, इतिहास-पुराणों के विशेषज्ञ, पूर्व कल्पों को जान लेने वाले, वेद ,उपनिषदों के मर्मज्ञ, न्याय एवं धर्म के तत्त्‍‌वज्ञ, संगीत विशारद, मेधावी, नीतिज्ञ, कवि, प्रभावशाली वक्तमहापण्डित, विद्वानों की शंकाओं का समाधान करने वाले, धर्म, अर्थ ,काम ,मोक्ष के ज्ञाता हैं|

कोई टिप्पणी नहीं: