02 सितंबर, 2013

अरे ! यहां तो हाथी भी हो गये कच्ची के शौकीन

‘‘सबको मालूम है, मैं शराबी नहीं, फिर भी कोई पिलाये तो मैं क्या करुं....‘‘ पंकज उधास की यह गजल वैसे तो शराब के शौकीनों द्वारा काफी पसंद की जाती है लेकिन आज कल यह गजल जनपद लखीमपुर खीरी के सिंगाही क्षेत्र के जंगली हाथियों पर बिल्कुल सटीक बैठ रही हैं। कहा जाता है कि जब आदमी शराब पीना शुरू करता है और उसका आदी हो जाता है तो उसकी लत जल्दी नही छूटती और उसी लत के चलते वह कभी कभी बेचैन होने लगता है। यहां कुछ ऐसा ही हाल जंगली हाथियों का है। प्राप्त जानकारी के अनुसार जनपद के सिंगाही क्षेत्र में नेपाल बार्डर की एसएसबी कृष्णा नगर की चैकी के पास आधा दर्जन हाथियों का झुण्ड लहन पीकर बेहोश होकर जमीन पर लुढ़क गया। जंगल से निकल कर हाथी किसानों की धान, गन्ना ,और मक्के की फसल को तो बर्बाद कर ही रहे थे इसके साथ ही जंगल किनारे अवैध कच्ची शराब बनाने वाले कारेाबारी भी अब हाथियों के निशाने पर आ गये है। जंगल से निकल कर फसल नष्ट करने के इरादे से बाहर आये जंगली हाथियों के एक झुण्ड ने शराब बनाने के लिये रखी गयी लहन का क्या सेवन कर लिया कि अब शायद यह उनकी पहली पसन्द बन गया है। 

कहने सुनने में शायद यह बात अजीब जरुर लगती होगी लेकिन हकीकत यही है कि जंगली हाथी अब कच्ची शराब के शौकीन हो गये हैं। क्षेत्र में सैकड़ो एकड़ गन्ना, धान, मक्का की फसल हाथियो की भेंट चढ़ चुकी है, हालत यह है कि जहां एक ओर लोग बाग अब अपनी फसलों को बचाने के लिये खेतों पर जाने से भी डरने लगे है। वहीं दूसरी ओर अब जंगल के किनारे अवैध कच्ची शराब बनाने वाले भी हाथियों के निशाने पर आ गयें है। आबकारी व पुलिस विभाग की मिलीभगत के चलते कच्ची शराब बनाने वाले कारोबारी जंगल के किनारे का ही इलाका चुनते है वहीं वह लोग कच्ची बनाने के लिये ड्रम में पानी भरकर उसमें गुड, खाण्डसारी, या शीरा मिला देते है, और कुछ दिनो के लिये छोड़ देते है। दो तीन दिन के बाद यह लहन कच्ची शराब बनाने के लिये तैयार हो जाता हैं। इस लहन से वह लोग दारू निकाले इससे पहले ही जंगली हाथियों का झुण्ड जंगल से बाहर आया और उनकी नजर लहन वाले ड्रम पर पड गयी और हाथियों ने जी भरकर उसे पी लिया। जब उनके उपर कच्ची का असर हुआ तो हाथियों ने क्षेत्र में जमकर उत्पात मचाया हाथियो के उत्पात से कच्ची बनाने वालो ने किसी प्रकार भाग कर अपनी जान बचाई। कच्ची का चस्का हाथियो को इस कदर लगा है कि अब हाथी कच्ची शराब के बगैर नहीं रह पा रहे है और हाथियों को कच्ची दारु की तलाश रहने लगी है। जंगल से निकल कर हाथियो के झुण्ड अब सबसे पहले कच्ची के लहन को ढूंढते नजर आते है। इसके चलते अब किसानो के साथ कच्ची बनाकर आजिविका चलाने वालो के सामने रोजी रोटी का संकट खडा हो गया है। कुछ ऐसा ही जनपद के सिंगाही क्षेत्र के अंतर्गत ग्राम महराजनगर, पचपेडा माझा, बघौडिया, रहीमपुरवा, इच्छानगर, रामनगर, में हुआ जहाँ कच्ची के सहारे रोजी रोटी कमाने वाले लोगो की लहन को हाथी पी गये और जब उन्हें नशा चढ़ा तो कच्ची बनाने वालों की शामत आ गयी। 

कच्ची शराब बनाने के लिए रखी जाने वाली लहन में चूकिं गुड और खाण्डसारी के अलावा कुछ अन्य मादक वस्तुयें भी कारोबारी मिलाते है, जिसके कारण लहन स्वादिष्ट हो जाती है। लोगों के अनुसार इसका नशा भी ठीक ठाक चढ़ता है, इस कारण हाथी उसे खूब पसन्द कर रहे है। हाथियों को कच्ची का स्वाद मिल जाने के कारण अब किसानो के साथ कच्ची बनाने वाले भी हाथियों के निशाने पर आ गये है। वैसे जब हाथियों का झुण्ड जंगल से निकलकर किसानों की फसलें तबाह करते थे तब किसान उन्हें गोले व पटाखे दगाकर भगा देते थे लेकिन अब ऐसा नही है। बताया जाता है कि शराबी हाथियों मे से एक हांथी बहरा भी है जो किसी की भी नही सुनता है। एक तो बहरा दूसरे कच्ची के नशे में धुत उस हाथी पर गोले व पटाखों का कोई असर नहीं होता हैं और वह वहां से जाने का नाम ही नही लेता है लेकिन इससे वन विभाग को कोई मतलब नही है वन विभाग के ही नक्शे कदम पर चलता हुआ पुलिस विभाग भी जान कर भी अनजान बना हुआ हैं। हाथी गरीब किसानों की चाहे जितनी फसल बर्बाद करे उससे किसी को फर्क नही पड़ता मगर यदि कोई व्यक्ति जंगल में पेड़ों से गिरी हुयी जलौनी लकड़ी अगर बीन बटोर लेता है तो उससे फारेस्ट विभाग व पुलिस विभाग दोनो अपनी जेबें भरने के लिए पूरी कानूनी कार्यवाही दिखाते हुए अपनी जेबें भरने से बाज नहीं आते हैं। एक ओर जहां फसल बचाव के लिय लोग अपने आप हाथियों को भगाने हेतु उपचार में जुट जातेे है। वहीं दूसरी ओर कच्ची शराब पीने का मजा ले चुके हाथियों का झुण्ड नशेड़ी हो चुका है और वह अब मानने वाले नही है, इसीलिए वह प्रतिदिन जंगल से बाहर आ रहे है। आज इंडो नेपाल बार्डर की कृष्णा नगर की एस एस बी चैकी के पास लगभग आधादर्जन हाथी जहरीली कच्ची शराब बनाने वाली लहन को पीकर बेहोश होकर जमीन पर लुढ़क गये और घण्टों वहीं पड़े रहे। नशा उतरने के बाद लोगों द्वारा काफी मशक्कत के बाद उन्हें वहां से भगाया जा सका। 

यदि आबकारी विभाग व पुलिस विभाग द्वारा क्षेत्र में अवैध शराब के कारोबारियों द्वारा बनायी जा रही अवैध कच्ची शराब पर यदि समय रहते अंकुश नहीं लगाया गया तो नशे के आदी हो चुके हाथियों द्वारा कभी भी मचाई जाने वाली किसी भी प्रलयंकारी घटना से इंकार नहीं किया जा सकता। 

लखीमपुर-खीरी से एसडी त्रिपाठी की रिपोर्ट

कोई टिप्पणी नहीं:

loading...
loading...