26 मार्च, 2012

आइये जाने आखिर मंदिरों में क्यों बजाया जाता है घंटा

आप जब भी मंदिर जाते है तो आपने देखा होगा कि मंदिर में घंटों की आवाज आती रहती हैं, क्या आपने कभी सोचा है कि आखिर मंदिर में घंटा क्यों बजाया जाता है| अगर नहीं पता है तो आज हम आपको घंटा से जुड़े धार्मिक और वैज्ञानिक कारण बताते हैं|

तो आइये जाने मंदिर में आखिर क्यों बजाया जाता है घंटा-

आपको बता दें कि शास्त्रों में भगवान की कृपा शीघ्र प्राप्त करने के लिए कई प्रकार के नियम बनाए गए हैं। इन नियमों का पालन पर देवी-देवता जल्दी ही प्रसन्न हो जाते हैं और भक्तों की परेशानियों का निराकरण कर देते हैं।

मंदिरों से हमेशा घंटी की आवाज आती रहती है। सामान्यत: सभी श्रद्धालु मंदिरों में लगी घंटी अवश्य बजाते हैं। घंटी की आवाज हमें ईश्वर की अनुभूति तो कराती है साथ ही हमारे स्वास्थ्य के लिए भी फायदेमंद है। घंटी आवाज से जो कंपन होता है उससे हमारे शरीर पर भी सकारात्मक प्रभाव पड़ता है। घंटी की आवाज से हमारा दिमाग बुरे विचारों से हट जाता है और विचार शुद्ध बनते हैं।

पुराणों में भी कहा गया है कि मंदिर में घंटी बजाने से हमारे कई पाप नष्ट हो जाते हैं। जब सृष्टि का प्रारंभ हुआ तब जो नाद (आवाज) था, वहीं स्वर घंटी की आवाज से निकलती है। यही नाद ओंकार के उच्चारण से भी जाग्रत होता है। घंटे को काल का प्रतीक भी माना गया है। धर्म शास्त्रियों के अनुसार जब प्रलय काल आएगा तब भी इसी प्रकार का नाद प्रकट होगा। 

इतना ही नही इसके वैज्ञानिक कारण भी है। जब घंटी बजाई जाती है तो उससे वातावरण में कंपन उत्पन्न होता है जो वायुमंडल के कारण काफी दूर तक जाता है। इस कंपन की सीमा में आने वाले जीवाणु, विषाणु आदि सुक्ष्म जीव नष्ट हो जाते हैं तथा मंदिर का तथा उसके आस-पास का वातावरण शुद्ध बना रहता है। साथ ही इस कंपन का हमारे शरीर पर भी सकारात्मक प्रभाव पड़ता है। घंटी की आवाज से हमारा दिमाग बुरे विचारों से हट जाता है और विचार शुद्ध बनते हैं। नकारात्मक सोच खत्म होती है। 

इसलिए अब से जब भी आप मंदिर या किसी भी देव स्थान पर जाएँ तो घंटा जरुर बजाएं|

आचार्य विनीत कुमार
मो. 9554963764 

कोई टिप्पणी नहीं: